आपको कितने स्वास्थ्य बीमा की आवश्यकता है ?

आपको कितने स्वास्थ्य बीमा की आवश्यकता है ?

पिछले कुछ दशकों में मेडिकल साइंस में विकास होने के कारण मानव जीवन-काल में वृद्धि हो रही है। हालांकि, दूसरे तत्वों और बदलते लाइफस्टाइल के परिणामस्वरूप विशेषकर शहरों में रहने वाले लोगों की आयु तो लंबी हो गई है लेकिन आज वे उतने स्वस्थ नहीं रहते हैं। लगातार बढ़ते वाहनों की संख्या के कारण दुर्घटनाओं की संख्या में भी निरंतर वृद्धि हो रही है और इसके अतिरिक्त लाइफस्टाइल के बिगड़ने के कारण लाइफस्टाइल संबंधी बीमारियाँ तेज़ी से बढ़ने लगी है। नवजात शिशु से लेकर वरिष्ठ व्यक्ति तक आज पहले की तुलना में अस्पताल में अधिक भर्ती होते दिखाई दे रहे हैं।

इसके साथ ही 15% प्रति वर्ष की दर से मेडिकल लागत में भी वृद्धि हो रही है, हेल्थकेयर में भी पिछले एक दशक से लगातार वृद्धि देखी जा रही है। बढ़ती हुई हेल्थकेयर लागत के कारण एक हेल्थबीमा पॉलिसी का न होना किसी भी व्यक्ति की उम्र लंबी होने के बावजूद जोखिम भरा हो सकता है। कोई नहीं सोच सकता है कि उसे बीमारी कब जकड़ ले और वो लंबे-चौड़े मेडिकल बिल के घेरे में आ जाएँ। यदि पहले से तैयारी न कि हो तब एक बार अस्पताल में भर्ती होने पर परिवार का सोचा समझा बजट भी आसानी से बिगड़ सकता है। इन संभावनाओं को देखते हुए, आपकी और आपके परिवार के लिए किसी भी आपातकालीन मेडिकल एमर्जेंसी से निपटने और हेल्थ संबंधी सुरक्षा के लिए एक अच्छी हेल्थ बीमा पॉलिसी का होना बहुत जरूरी समझा जाता है।

एक अच्छी हेल्थ बीमा पॉलिसी का होना अच्छा होता है लेकिन इसे अब मूलभूत जरूरत समझा जाता है। इसी प्रकार किसी हेल्थ बीमा पॉलिसी से सम्पूर्ण लाभ प्राप्त करने के लिए इष्टम सुरक्षा कवर मिक्स का होना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। भारत में अधिकतम बीमाधारक स्वयं के लिए 2-3 लाख की सुरक्षा लेना ही पसंद करते हैं और एक आम व्यक्ति अपने लिए इससे भी कम बीमा की सुरक्षा लेता है।

बीमा की सुरक्षा लेते समय आपको थोड़ी वास्तविकता को भी ध्यान में रखना होगा। आज के समय में एक छोटा सा सर्जिकल प्रोसीजर भी कम से कम 10,000 रू की लागत में होता है। किसी भी अच्छे और प्रसिद्ध हॉस्पिटल में बाईपास सर्जरी की लागत कम से कम 2 लाख से भी अधिक हो सकती है जो अगले पाँच सालों में इससे भी अधिक हो सकती है। आज मेडिकल खर्चो के लिए जो बीमा सुरक्षा ली गई है वह उपयुक्त लगती है लेकिन अगले आने वाले समय में यह हेल्थकेयर के खर्चों के लिए नाकाफी हो सकती है। इसलिए यही सुझाव दिया जाता है कि बीमा राशि के निर्धारन से पहले महंगाई को भी ध्यान में रखना जरूरी है।

तब क्या कोई सही ‘राशि’ है जो ऑनलाइन हेल्थ बीमा लेते समय ध्यान रखनी होगी? बीमा सुरक्षा के लिए सही राशि का निर्धारन करते समय विभिन्न तथ्यों जैसे आप किस अस्पताल में इलाज करवाना पसंद करते हैं, आपकी और आपके परिवार के सदस्य की आयु, हेल्थ कंडीशन और  आपके खर्च वहन करने की क्षमता आदि को ध्यान में रखना जरूरी होता है। चिकित्सालागत आमतौर पर अस्पताल की प्रकृति और ली गईं सुविधाओं पर भी निर्भर करती हैं। उदाहरण के लिए किसी व्यक्ति के घुटना बदलने की लागत एक प्रसिद्ध अस्पताल में, साधारण और छोटे अस्पताल की तुलना में लगभग दुगुनी हो सकती है। इसलिए आपकी हेल्थ बीमा पॉलिसी की बीमा राशि आपकी आय और जीवन शैली के आधार पर ही निर्धारित की जानी चाहिए।

जहां किसी व्यक्ति की हेल्थ बीमा की बीमा राशि के लिए कोई आदर्श राशि नहीं होती है फिर भी इस संदर्भ में बाज़ार आधारित दो नियम बनाए गए हैं:

पहला, आपकी बीमा राशि आपकी कुल वार्षिक आय की कम से कम 50% होनी चाहिए। और दूसरा , बीमा सुरक्षा में कम से कम आपकी पसंद के अस्पताल में कोरोनरी आर्टरी बाइपास ग्राफ्ट की लागत के बराबर तो होना ही चाहिए। अधिकतम निजी वित्तीय विशेषज्ञ कम से कम 5 लाख तक की बीमा सुरक्षा की सलाह देते हैं। आप अपने परिवार के सदस्यों की बीमा सुरक्षा के लिए इतनी ही राशि की फैमिली फ्लोटर ले सकते हैं।

दवाइयों और इलाज की बढ़ती हुई लागत के कारण आपकी व्यक्तिगत हेल्थ बीमा पॉलिसी की सुरक्षा सभी खर्चो को पूरा करने में कम पड़ सकती है। साधारण हेल्थ बीमा पॉलिसी रिकवरी समय के दौरान होने वाले खर्चे जैसे सम्पूर्ण नर्सिंग केयर, काउंस्लिंग सेशन, रिहेबिलिटेशन आदि शामिल नहीं हो सकते हैं। लेकिन आप अपनी हेल्थ सुरक्षा को अपनी साधारण बीमा पॉलिसी को राइडर्स और टॉप अप जैसे उपकरणों की मदद से बिना अतिरिक्त प्रीमियम दिये, उसे ऊपर बढ़ा भी सकते हैं।

एक राइडर वह एड-ऑन होता है जो आपको अतिरिक्त लाभ देता है। हेल्थ बीमा पॉलिसी के साथ सामान्य रूप से मिलने वाले राइडर अस्पताल में भर्ती होने वाले खर्चे, लेकिन यह छूट के नाम से उपलब्ध अंतिम सीमा के खत्म होने पर ही उपलब्ध होते हैं। छूट वास्तव में बीमा कंपनी द्वारा कवर नहीं की जाती हैं और इसका भुगतान बीमाधाक द्वारा ही किया जाता है। छूट का प्रावधान टॉप अप योजनाओं को थोड़ा सस्ता कर देता है क्योंकि इसके अंतर्गत छोटी राशि का क्लेम का भुगतान बीमा कंपनी द्वारा नहीं किया जाता है। किसी गंभीर बीमारी (जैसे हार्ट संबंधी परेशानी में )की स्थिति में आपके शुरुआती इलाज की लागत ही 5 लाख या इससे अधिक हो सकती है और इसके लिए आपको टॉप अप कवर की जरूरत हो सकती है।

हेल्थ बीमा योजना और इसके लाभों को जानने के लिए Call at 9041883189

Ask any Question on Health Insurance .... We will reply for sure.